भारत में 19 साल की उम्र तक के लोगों में COVID-19 की अधिक दर: सर्वे

October 8, 2021

भारत में कोविड-19 के मामलों पर किए गए एक अध्ययन में यह पाया गया कि 19 वर्ष तक की आयु के लोगों और महिलाओं के बीच संक्रमण के मामलों में वृद्धि हुई।

और कोरोना वायरस के कम संक्रामक स्वरूप (नॉन वेरिएंट ऑफ कंसर्न) की तुलना में डेल्टा स्वरूप ने टीके की खुराक लेने के बाद लोगों को अपनी चपेट में अधिक लिया और इस स्वरूप के कारण मरने वाले लोगों की दर भी अधिक रही।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा इस हफ्ते जारी कोविड-19 साप्ताहिक महामारी विज्ञान जानकारी के अनुसार, एक आबादी पर किया गया अध्ययन बीमारी की गंभीरता और मृत्यु दर समेत जनसांख्यिकीय विशेषताओं पर आधारित है। यह अध्ययन नॉन वेरिएंट ऑफ कंसर्न (बी.1) स्वरूप और डेल्टा स्वरूप (बी.1.617.2) से संक्रमित लोगों पर किया गया।

डब्ल्यूएचओ ने ताजा जानकारी में कहा, ‘‘कोविड-19 के 9,500 मरीजों के वायरल आनुवंशिक अनुक्रम का इस्तेमाल करते हुए इस अध्ययन में पाया गया कि युवाओं (0-19 साल के आयु वर्ग) और महिलाओं में संक्रमण के मामलों की संख्या बढ़ी और बी.1 स्वरूप के मुकाबले डेल्टा स्वरूप ने टीके की खुराक लेने के बाद लोगों को अपनी चपेट में अधिक लिया और इस स्वरूप के कारण अस्पताल में भर्ती होने तथा मरने वाले मरीजों की संख्या अधिक रही।’’

ताजा जानकारी में कहा गया है कि दुनिया भर में कोविड-19 संक्रमण के साप्ताहिक मामले और मौत की संख्या लगातार कम हो रही है। 27 सितंबर से तीन अक्टूबर के दौरान कोरोना वायरस के 31 लाख से अधिक मामले आए और 54,000 लोगों की मौत हुई।

इस हफ्ते संक्रमण के मामलों में पिछले हफ्ते के मुकाबले 9 प्रतिशत की कमी दर्ज की गयी जबकि मृतकों की संख्या पिछले हफ्ते के बराबर रही। यूरोपीय क्षेत्र के अलावा इस हफ्ते सभी क्षेत्रों में संक्रमण के नए मामलों में कमी देखी गयी।

ताजा जानकारी में कहा गया है कि मरने वाले लोगों की साप्ताहिक संख्या में अमेरिका और यूरोप को छोड़कर सभी क्षेत्रों के लिए 10 प्रतिशत से अधिक की गिरावट दर्ज की गयी। संक्रमण के सबसे अधिक नए मामले अमेरिका से सामने आए। इसके बाद ब्रिटेन, तुर्की, रूस और भारत से संक्रमण के अधिक नए मामले आए।

इस हफ्ते केवल भूटान में संक्रमण के मामलों में वृद्धि देखी गयी। हालांकि संक्रमण के कुल मामले अब भी कम हैं। इसी तरह नेपाल में इस हफ्ते मौत के मामलों में वृद्धि देखी गयी।

वैश्विक रूप से पांच अक्टूबर तक अल्फा स्वरूप के मामले 195 देशों में सामने आए जबकि बीटा स्वरूप के मामले 145 देशों और गामा स्वरूप के मामले 93 देशों में सामने आए। अत्यधिक संक्रामक डेल्टा स्वरूप के मामले 192 देशों में सामने आए।
 


भाषा
संयुक्त राष्ट्र/जिनेवा

 
News In Pics