भीलवाड़ा के अशोक चोटिया ऐसे बना साधु आनंद गिरि, 12 साल की उम्र में घर छोड़ चले गए थे

September 22, 2021

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और निरंजनी अखाड़ा के सचिव महंत नरेंद्र गिरि की मौत को लेकर सस्पेंस बना हुआ है। मामले में मिले कथित सुसाइड नोट में उनके शिष्य आनंद गिरि का जिक्र है।

नरेंद्र गिरि के शिष्य आनंद गिरि, जिसपर संत ने अपने 7 पन्नों के सुसाइड नोट में आरोप लगाया है, राजस्थान के भीलवाड़ा जिले का मूल निवासी है। उन्होंने 13 साल की उम्र में अपना घर छोड़ दिया था। उनके पिता रामेश्वर छोटिया आज भी यहां गांव सरेरी में एक छोटे से घर में रहते हैं। उन्होंने कहा कि आनंद नाम उसे बाद में दिया गया था।

उन्होंने कहा, "हमने उसका नाम अशोक रखा है। 25 साल पहले, वह बिना किसी को बताए घर से निकल गया था। वह उस समय 7वीं कक्षा का छात्र था। हमने उसे खोजने की कोशिश की और कुछ वर्षो के बाद, किसी ने हमें बताया कि वह हरिद्वार में है।"

उन्होंने बताया, "हमने हरिद्वार में भी उसे खोजने की कोशिश की और नरेंद्र गिरि के आश्रम में उसका पता लगाया। हमने बाद में उनसे बात की तो पता चला कि नरेंद्र गिरि 2012 में आनंद को अपने साथ हमारे गांव ले आए थे। परिवार के सदस्यों की उपस्थिति में उन्हें यहां दीक्षा दी गई।"

आनंद गिरि के पिता ने कहा कि दोनों यहां एक घंटे तक रहे और फिर वापस नहीं आए। हालांकि, आनंद गिरि पांच महीने पहले अपनी मां के निधन के दौरान यहां आए थे।

परिवार ने इन दावों का खंडन किया कि आनंद गिरी ने उन्हें कभी कोई पैसा भेजा था।

आनंद गिरि भाई-बहनों में सबसे छोटा है। दो बड़े भाई सूरत में हैं और कबाड़ का काम करते हैं, पांच महीने पहले मां की मौत हो चुकी है और उनके पिता खेती में लगे हुए हैं जबकि एक भाई सब्जी की गाड़ी चलाता है। तीन भाई के परिवार का पुश्तैनी घर है जहां वे सभी रह रहे हैं।

इस बीच, ग्रामीण उन्हें सम्मानित व्यक्ति के रूप में मानते हैं और उनका कहना है आनंद गिरि शांत स्वभाव का है, वह किसी भी अपराध में शामिल नहीं हो सकता।
 


आईएएनएस
जयपुर

 
News In Pics