वैक्सीनेशन में देरी होने से वायरस के वैरियेंट को फैलने में मदद मिलेगी

April 28, 2021

हेल्थकेयर विशेषज्ञों का कहना है कि लोगों को कोविड 19 वैक्सीन लेने में देरी नहीं करनी चाहिए क्योंकि इससे वायरस को नए वेरिएंट विकसित करने का मौका मिलेगा और उनमें से कुछ वर्तमान टीकों की प्रभावकारिता को कम कर सकते हैं।

उनका मानना है कि वैक्सीन नहीं लेने वाले अपने निकट और प्रियजनों के साथ बहुत अन्याय कर रहे हैं।

भारत सरकार ने घोषणा की है कि 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को 1 मई से शुरू होने वाले कोविड 19 टीकाकरण में वैक्सीन लगाई जाएगी। जिससे महामारी को हराने में मदद मिलेगी। लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि युवा और बुजुर्ग वैक्सीन लेने में संकोच कर रहे हैं।

डॉ मर्विन लियो, क्लस्टर सीओओ, ग्लेनेगल्स ग्लोबल हॉस्पिटल्स का मानना है कि कोविड 19 वायरस अभी भी कई होस्ट्स को दोहराने और यह नए वैरिएंट को बनाने में सक्षम है उन्होंने कहा, "इनमें से कुछ वैरिएंट वर्तमान वैक्सीन की प्रभावकारिता को कम कर सकते हैं, जो निश्चित रूप से सही नहीं होगा। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि लोग एक दूसरे को जल्द से जल्द टीका लगवाने के लिए प्रोत्साहित करें और यह सुनिश्चित करें कि वायरस हमारे जीवन से बाहर चला जाए।



"आरएनए के टीके और एडेनोवायरस आधारित टीके (कोविड 19 के खिलाफ टीके विकसित करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली तकनीकें) पहले से ही हियूमन फेस ट्रायल के सेकेंड फेस में हैं जैसे कि इन्फ्लूएंजा और एक अलग कोरोनावायरस नामक संक्रामक रोग के लिए दो मानव परीक्षण हो रहे हैं।

वैज्ञानिकों के पास पहले से ही ऐसे टीकों पर सुरक्षा और इम्यूनोजेनेसिटी डेटा हैं। डॉ अनुषा कर्रा, आंतरिक चिकित्सा, पश्चिमी मैदान अस्पताल, डॉज सिटी, यूएसए ने कहा कि यह समय है जब हम चिकित्सा विज्ञान में भरोसा करे हैं और जल्द से जल्द टीकाकरण कराएं।


आईएएनएस
हैदराबाद

 
News In Pics